WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

करौली सरकार के 16 नियम, पता एवं जाने का रास्ता , सम्पूर्ण जानकारी

उत्तर प्रदेश के कानपुर में स्थित करौली सरकार के बारे में कौन नहीं जानता और यहां पर वर्तमान समय में इतनी ज्यादा लोग जा रहे हैं की धाम पर बहुत ही ज्यादा भीड़ हो जाती है। उत्तर प्रदेश के करौली में जिस तरह से भीड़ होती है ठीक उसी तरीके से आपको एमपी के बागेश्वर में भी देखने को मिलती है और जिस तरह से बागेश्वर धाम पर लोगों की समस्याएं दूर हो जाती हैं उनका कष्ट दूर हो जाता है ठीक उसी तरीके से आपको करौली सरकार के यहां का इस प्रकार की समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है । आज के आर्टिकल में हम जानेंगे कि करौली सरकार की 16 नियम क्या है और यहां पर जाने का रास्ता क्या है?

नियम –1

करौली सरकार के लिए पहला नियम यह कहता है कि यहां पर आने वाले श्रद्धालुओं को वैदिक परंपराओं का पालन करना चाहिए और यहां पर जो भी माता कामाख्या और भगवान शिव की पूजा करने से पहले सावधानियां होती हैं उनका ध्यान में रखना चाहिए इसके बाद ही आपकी हर समस्या दूर हो सकती है ।

नियम –2

यहां पर केवल वैदिक परंपराओं का पालन किया जाता है और किसी भी प्रकार का जादू टोना नहीं होता । यह धाम बहुत ही पवित्र है यहां पर हर प्रकार की बाधाओं को दूर किया जाता है।

नियम –3

करौली सरकार के दरबार में सुबह 10:00 बजे से पूजा अर्चना शुरू हो जाती है और इसके लिए श्रद्धालु शामिल भी होते हैं यदि आप शामिल होना चाहते हैं तो आपको समय से पहले वहां पर पहुंचना आवश्यक है वहां जाने के बाद आपको हर नियम बता दिया जाएगा जैसे आप अपना कर शामिल हो सकते हैं। यदि आप हवन करना चाहते हैं तो वहां पर आपको हवन सामग्री भी उपलब्ध हो जाती है और हवन करने के लिए किसी पंडित की आवश्यकता नहीं होती आप स्वयं से हवन कर सकते हैं।

नियम –4

यहां पर ऐसा माना जाता है कि मुस्लिम समुदाय से आने वाला कोई भी भक्त यदि किसी भी समस्या से छुटकारा पाना चाहता है तो यहां पर कुछ भी संभव नहीं है इस प्रकार के लोग यहां पर कृपया अपना समय बर्बाद ना करें।

नियम –5

5 में नियम में आपको यह बता दिया जाता है कि यदि आप आप किसी भी प्रकार से भूत-प्रेत जैसी बढ़ाओ से ग्रसित है तो आपकी सबसे बड़ी समस्या आपका परिवार ही है और आपके परिवार के पूर्वज आपके परिवार के पूर्वजों के अवधारणा होने की वजह से आपके परिवार में इस प्रकार की बाधा उत्पन्न हो सकती है। इस बाधा से निपटने के लिए आपको पूरी प्रक्रिया धाम पर बता दी जाती है।

नियम –6

छठवें नियम के अनुसार यहां पर सिद्धि हवन के अनुसार आपकी पूर्वजों को मुक्ति मिल जाती है और आपकी हर बाधा दूर हो जाती है जिसमें आपको पांच हवन करने पड़ते हैं इसके बाद जब आप 6 वां हवन करते हैं तो आपको पूर्व से छुटकारा मिल जाता है और अंतिम हवन के द्वारा आपके पूर्वजों को मुक्ति मिल जाती है।

नियम – 7

यदि आप करौली सरकार के गुरु जी से मिलना चाहते हैं तो आप सोमवार को छोड़कर किसी भी दिन मिल सकते हैं और मिलने का समय 10:00 के बाद का होता है।

नियम –8

8वें नियम के अनुसार आपको अमावस्या मुक्ति कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं लेकिन उसके पहले आपको अपनी अर्जी स्वीकार करवानी होगी और सिद्ध हवन करवाना होगा।

नियम –9

यदि आप हवन करने में सक्षम नहीं है तो आपको दूसरी विधि का उपयोग करना होगा इसके बारे में करौली सरकार के द्वारा स्वयं बताया जाता है। दूसरी प्रक्रिया को शनिवार के दिन अपनाया जाता है।

नियम –10

ऐसा माना जाता है कि यदि किसी परिवार का कोई भी एक व्यक्ति इस धाम पर जाता है तो पूरे परिवार का कल्याण हो जाता है ।

नियम –11

वैसे तो यहां पर प्रतिदिन चिकित्सा होती है लेकिन यदि मुक्ति चिकित्सा की बात करें तो शनिवार के दिन ही होती है ।

नियम –12

इस नियम के अनुसार करौली सरकार के द्वारा बताया जाता है कि आप इंटरनेट की धोखेबाजी से बचें इसके लिए आपको 9839861919 इस नंबर पर क्लिक करके किसी भी प्रकार की जानकारी को प्राप्त करना है।

नियम –13

इस नियम के अनुसार जब आप करौली धाम की सभी प्रक्रियाओं को पूरा करें तो अपने परिवार में किसी भी गलत संगति वाले या फिर गलत करने वाले व्यक्ति से नाता तोड़ ले इसके बाद आपकी बाधा दूर हो जाएगी।

नियम 14

इस नियम के अनुसार ऐसा बताया जाता है कि यदि आपके परिवार में कोई शादीशुदा बहन घर पर रहती है जो तलाकशुदा है उसके लिए उसके पति से डीएनए तुड़वाना बहुत ही आवश्यक होता है जिसके बारे में धाम से ही पता चलेगी ।

नियम 15

इस नियम के अनुसार आप यदि धाम पर जाना चाहते हैं तो गूगल मैप का सहारा ले सकते हैं जिसके द्वारा आपको आने-जाने में सुगमता होगी।

नियम 16

इस नियम के अनुसार आपको सोशल मीडिया का जो ऊपर कांटेक्ट नंबर दिया गया है उसे पर अपना नाम और पता भेज कर अपनी समस्याओं से छुटकारा पाने हेतु जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Comment