WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

20 March 2024 कक्षा 11 ब्यूटी वेलनेस पेपर सोशल मीडिया पर वायरल एमपी बोर्ड

सोशल मीडिया पर ब्यूटी का पेपर वायरल होने पर कई विद्यार्थियों को भारी नुकसान हुआ है क्योंकि जो विद्यार्थी पूरे 300 दिन में साल की महत्वपूर्ण पढ़ाई करते हैं और बाद में पता चलता है कि पेपर वायरल हो गया है तो उनको इससे काफी दुख होता ।

किसी पेपर के वायरल होने में सबसे आगे सोशल मीडिया ही है और सोशल मीडिया पर सबसे आगे टेलीग्राम सॉफ्टवेयर के साथ-साथ व्हाट्सएप है क्योंकि यह दोनों ही सॉफ्टवेयर ऐसे हैं जो सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाते हैं और इनके माध्यम से ही विद्यार्थियों का ग्रुप बनता है और ग्रुप के माध्यम से डिस्कशन होता है। आज के आर्टिकल में हम समझेंगे कि जो पेपर वायरल हुआ है उसे डाउनलोड किस तरीके से किया जा सकता है और उसके वायरल होने का असली कारण क्या है?

किस तरह से करें वायरल पेपर डाउनलोड –

वायरल पेपर को डाउनलोड करने के लिए आपको कुछ बड़ी प्रक्रिया नहीं करना है केवल नीचे दिए गए वेबसाइट की लिंक पर क्लिक करना है और इसी लिंक के माध्यम से आप वायरल पेपर को बड़ी आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं। वायरल पेपर को आप जिस भी फॉर्मेट में डाउनलोड करना चाहते हैं आप उसे फॉर्मेट में उसे डाउनलोड कर सकते हैं। जो भी पेपर वायरल हुआ है उसे पेपर की पुष्टि हमारी वेबसाइट नहीं करती।

टेलीग्राम और व्हाट्सएप पर हुए पेपर वायरल –

टेलीग्राम और व्हाट्सएप के द्वारा जो भी पेपर वायरल होता है वह फिर केवल टेलीग्राम और व्हाट्सएप पर ही नहीं बल्कि सोशल मीडिया के हर प्लेटफार्म पर वायरल हो जाता है । पेपर के वायरल होने में टेलीग्राम और व्हाट्सएप दो ऐसे सशक्त माध्यम है जहां पर विद्यार्थी ग्रुप बनाकर एक दूसरे से डिस्कशन करते हैं और इन विद्यार्थियों में केवल एक जिले के ही नहीं बल्कि एमपी के पास पड़ोस के सभी जिलों के विद्यार्थी भी एक दूसरे से कनेक्ट होते हैं।

टेलीग्राम पर बना विद्यार्थियों का ग्रुप–

टेलीग्राम पर विद्यार्थी ग्रुप बनाकर एक दूसरे के साथ डिस्कशन करते हैं और यही डिस्कशन आगे जाकर PDF के लेनदेन में बदल जाता है और फिर धीरे-धीरे यहां पर पेपर के परीक्षा से मिलने के पहले वाली बातें शुरू हो जाती हैं। टेलीग्राम पर विद्यार्थियों के द्वारा पेपर की पीडीएफ परीक्षा से 2 घंटे पहले ही इधर-उधर कर दी जाती है हालांकि इसकी कहानी काफी गहरी है और गुप्त है। टेलीग्राम ही वह माध्यम है जिसके द्वारा पेपर बड़ी जल्दी वायरल हो जाते हैं।

2 घंटे पहले ही हो गया पेपर वायरल सरकार की हुई लापरवाही –

पेपर के वायरल होने पर यह निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि सरकार की लापरवाही की गई है क्योंकि अगर सरकार की कड़ी निगरानी में और सिक्योरिटी में पेपर को प्रोवाइड कराया जाए तो निश्चित रूप से पेपर वायरल नहीं होगा।

माध्यमिक शिक्षा मंडल मध्य प्रदेश भोपाल की तरफ से कई कार्यकर्ताओं को परीक्षा कंडक्ट कराने के लिए जिम्मेदारी दी जाती है लेकिन उन्हें में से कई कार्यकर्ता अपनी जिम्मेदारी को भूल जाते हैं और उनसे कोई भूल चूक होने की वजह से या फिर निगरानी ना होने की वजह से पेपर वायरल हो जाता है। मगर पेपर के वायरल होने की पुष्टि हमारी वेबसाइट के द्वारा नहीं करी जाती और ना ही अभी एमपी बोर्ड के द्वारा पेपर के वायरल होने की पुष्टि की गई है ।

Leave a Comment