WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

कक्षा 11 इतिहास का पेपर सोशल मीडिया पर हुआ वायरल 2024 Annual Exams वार्षिक परीक्षाएँ

इतिहास विद्यार्थी के जीवन में कई तरह का होता है पहले वह इतिहास जिसे वह अपने विषय के रूप में अध्ययन करते हैं और उस ज्ञान अर्जित करते हैं इसके अलावा दूसरा इतिहास वह होता है जो अपने कारनामे के द्वारा रचा जाता है अर्थात अपनी मेहनत से और अपनी काबिलियत के द्वारा कोई नई उपलब्धि प्राप्त करी जाती है। इन सभी के बीच सोशल मीडिया पर एक तरह से कई प्रकार की खबरें फैलाई जाती हैं कि 2 घंटे पहले ही इतिहास का पेपर वायरल हो गया जिसको सुनकर कई विद्यार्थियों को बहुत ही अचंभा होता है। पेपर वायरल कैसे होता है और इसका विद्यार्थियों पर होता है आज के आर्टिकल में यही सब समझेंगे।

पेपर के डाउनलोड करने का तरीका–

यदि कोई विद्यार्थी पेपर को डाउनलोड करना चाहता है तो उसको कुछ भी नहीं करना है नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके वह आसानी से डाउनलोड कर सकता है और उसकी वही पेपर मिलेगा जो सोशल मीडिया पर वायरल है । सोशल मीडिया पर पेपर वायरल होने की खबर की पुष्टि हमारी वेबसाइट नहीं करती और यह भी पुष्टि नहीं करती कि आखिर में कौन सा पेपर वायरल हुआ है क्योंकि ओरिजिनल पेपर होने की कोई भी खबर निश्चित नहीं है। पेपर को डाउनलोड करने के लिए विद्यार्थियों को कुछ नहीं करना है दिए गए लिंक पर क्लिक करके बड़ी आसानी से पेपर डाउनलोड कर सकते हैं।

पेपर वायरल होने की पुष्टि हमारी वेबसाइट नहीं करती–

टेलीग्राम के माध्यम से और अन्य प्लेटफार्म के माध्यम से जब पेपर की पीडीएफ को वायरल कराया जाता है तो इसके पीछे किसी एक का विशेष हाथ होता है लेकिन उसका पता लगा पाना बड़ा मुश्किल होता है क्योंकि वह साइबर एक्सपर्ट होता है जिसे पकड़ पाना बेहद मुश्किल होता है। पेपर बैग करने वाले के बारे में पता करना एक तरह से साइबर एक्सपर्ट का ही काम है और साइबर एक्सपर्ट के बिना उसके बारे में पता लगा पाना बड़ा मुश्किल है। अगर वायरल पेपर के बारे में पता लग जाए तो उसके बाद सरकार भी अपने एक्शन में आ जाएगी लेकिन यह पेपर कहां से वायरल हुआ है इसके बारे में वेबसाइट के द्वारा कोई भी पुष्टि नहीं की जाती।

सोशल मीडिया पर फैली तमाम खबरें–

सोशल मीडिया एक ऐसा माध्यम बन चुका है कि कोई भी खबर बड़ी आसानी से फैल जाती है जिसमें सैकड़ो का भी समय नहीं लगता एक ही चीज 1 घंटे में करोड़ों लोग देख सकते हैं और एक चीज कई दिनों तक फ्रिज भी रह सकती है । जब किसी पेपर को वायरल करना होता है तो वह कई स्टेज से होकर निकलता है और यह निश्चित होता है कि उसे 1 घंटे या फिर 2 घंटे पहले विद्यार्थियों को दिया जाएगा और शायद हो सकता है कि केवल पेपर की फोटो खींचने के बाद इस वायरल कराया जाता हो ।

पेपर के वायरल होने पर विद्यार्थियों का हुआ बुरा हाल–

पेपर के वायरल होने पर विद्यार्थियों का सबसे बड़ा नुकसान है क्योंकि विद्यार्थियों को अपने भविष्य की सबसे पहले चिंता होती है कि आखिर में आगे क्या होगा। विद्यार्थियों के भविष्य पर किसका प्रभाव अच्छा नहीं पड़ता क्योंकि विद्यार्थियों के मन में यह एक बहुत ही छोटी चीज हो जाती जबकि यह एक छोटी चीज नहीं है । पेपर के वायरल होने पर कई विद्यार्थियों को इस बात की चिंता है कि कहीं आखिर में दूसरी बार पेपर ना करवाए जाएं तो फिर हमारा समय बर्बाद हो जाएगा ।

Leave a Comment