WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का सरनेम क्या है?

बागेश्वर धाम सरकार के नाम से जाने ,जाने वाले धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी महाराज का वास्तविक नाम धीरेंद्र कृष्ण गर्ग है यह एक कर्मकांडी ब्राह्मण हैं और उनके परिवार वाले अथवा पूर्वज हमेशा से ब्राह्मणों का कार्य करते आए हैं जिसे हवन पूजन आदि कहा जाता है। धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का सरनेम वास्तविक में गर्ग है जो ब्राह्मण कुल में लिखा जाता है । आज के आर्टिकल में हम जानेंगे कि धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का जीवन कैसे बदला और कैसे एक है गरीब ब्राह्मण लड़के से आज वह करोड़ों दलों पर राज करते हैं और कैसे बागेश्वर धाम सरकार के नाम से प्रचलित हुए।

कैसे बने धीरेंद्र कृष्ण गर्ग कथा वाचक धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री –

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का बचपन बहुत ही गरीबी में गुजरा लेकिन जैसे ही समय बदला तो वह पूरी दुनिया में अपना सनातन का झंडा फहरा रहे। भगवान ने जिस तरह से बागेश्वर धाम सरकार का साथ दिया उसे तरह से कहा जा सकता है कि उनके जीवन में तो सीधा चमत्कार ही हुआ है । धीरेंद्र कृष्ण गर्ग ने खुद कभी यह नहीं सोचा होगा कि उनकी जिंदगी कुछ इस तरीके से बदल जाएगी जिसकी जिंदगी में स्वयं अंधेरा था आज वह लाखों लोगों की जिंदगी में उजाला कर रहा है ।

बागेश्वर धाम सरकार के नाम से कैसे जाने गए –

भगवान की कथा करने वालों की हमारे देश में बहुत ही इज्जत है और उनको बहुत ही सम्मानित किया जाता है हालांकि वह है कितने पढ़े लिखे हैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं होती। शुरुआत में कथा वाचक धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी बागेश्वर धाम महाराज के नाम से जाने गए लेकिन धीरे-धीरे लोग उनको बागेश्वर धाम सरकार के नाम से ही बुलाने लगे और अब पूरी दुनिया उनको बागेश्वर धाम सरकार के नाम से ही जानती है ।

बागेश्वर धाम महाराज कहां-कहां कथा करते हैं ?

बागेश्वर धाम के प्रमुख धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी देश दुनिया में हर कहीं पर कथा करने के लिए जाते हैं दुनिया के कोने-कोने में जहां भी बड़ी मात्रा में सनातनी लोग रहते हैं या फिर हिंदू रहते हैं अथवा भारत के लोग निवास करते हैं वहां पर कथा करने के लिए जाते हैं । इंग्लैंड और अमेरिका जैसे देशों के साथ-साथ मॉरीशस में भी बागेश्वर धाम सरकार के द्वारा कथा संपन्न करी गई है ।

बागेश्वर धाम सरकार की कथा में कितने लोग रहते हैं ?

बागेश्वर धाम के प्रमुख धीरेंद्र कृष्णशास्त्री जी जहां कहीं पर भी कथा करने के लिए जाते हैं वहां पर उनकी पूरी टीम शामिल होती है और उसे टीम में लगभग 20 लोग एक अच्छे रहते हैं और कई बार इससे ज्यादा की संख्या भी हो जाती है । बागेश्वर धाम महाराज के द्वारा जहां कहीं पर भी कथा करने की बात आती है तो निश्चित रूप से आम आदमी कथा नहीं करवा पता क्योंकि इसमें लाखों का खर्चा आता है ।

Leave a Comment