WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

पेपर लीक करने वालों को जेल भेजने की तैयारी में माध्यमिक शिक्षा मंडल : देखें सभी निर्देश

मध्य प्रदेश बोर्ड की परीक्षाओं के समय को लगभग 10 दिन रह गए हैं। बोर्ड परीक्षाओं को लेकर माध्यमिक शिक्षा मंडल ने बहुत बड़े-बड़े निर्णय लिए हैं। 2023 में कक्षा दसवीं एवं 12वीं के बोर्ड परीक्षाओं के पेपर वायरल हो गए थे, इन्हीं वायरल पेपर की वजह से माध्यमिक शिक्षा मंडल की बहुत ज्यादा बदनामी भी हुई थी। पेपर वायरल करने में कुछ हद तक शिक्षकों का हाथ ही होता है क्योंकि शिक्षकों के पास ही मोबाइल रहता है परीक्षा केंद्र में, तो वही मोबाइल से फोटो खींचकर के अपने संबंधियों को भेज देते हैं इस तरह पेपर सोशल मीडिया पर भी वायरल हो जाता है।

इस 12वीं बोर्ड परीक्षा के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल ने सबसे बड़ा निर्णय यह लिया है कि शिक्षकों के पास केंद्र के अंदर मोबाइल नहीं रहेगा, साथ ही साथ केंद्र के अंदर जो पुलिसकर्मी होंगे उनके पास भी मोबाइल नहीं रहेगा, मोबाइल ले जाने पर चाहे वह शिक्षक हो, चाहे पुलिसकर्मी हो उन पर बहुत बड़ी से बड़ी कार्यवाही की जाएगी।

नकल को रोकने के लिए, साथ ही परीक्षा में फर्जी विद्यार्थियों के प्रवेश को रोकने के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल ने इस बार एडमिट कार्ड पर विशेष व्यवस्था की है। क्यूआर कोड लगाकर एडमिट कार्ड पर माध्यमिक शिक्षा मंडल ने यह व्यवस्था की है कि यदि क्यूआर कोड को स्कैन किया जाएगा तो उस विद्यार्थी से संबंधित सारी जानकारी 30 सेकंड के अंदर आपके सामने आ जाएगी। एडमिट कार्ड पर क्यूआर कोड लगाने से फर्जी परीक्षार्थियों के परीक्षा में प्रवेश को रोका जा सकेगा।

साथ ही साथ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने परीक्षार्थियों के लिए उत्तर पुस्तिका से संबंधित बहुत बड़ा बदलाव किया है। अब विद्यार्थियों को द्वितीय उत्तर पुस्तिका नहीं दी जाएगी। प्रथम उत्तर पुस्तिका 32 पेज की दी जाएगी, उसी में परीक्षार्थियों को संपूर्ण पेपर हर करना होगा अलग से अब लूज कॉपी नहीं दी जाएगी।

साथ ही साथ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने जागरूकता अभियान भी चलाया है। यदि कोई भी व्यक्ति चाहे वह व्हाट्सएप हो, टेलीग्राम हो या यूट्यूब हो आदि सोशल मीडिया पर पेपर वायरल करता है या पेपर वायरल करने की अफवाह फैलाता है या फर्जी पेपर वायरल करता है तो उस पर माध्यमिक शिक्षा मंडल सख्त कार्रवाई करेगी और उसे जेल भेजेगा। ‌

Leave a Comment